#श्री कृष्ण श्लोक #माधव #Shri Krishna shloka #Madhav

मूकं करोति वाचालं पंगुं लंघयते गिरिं।
यत्कृपा तमहं वन्दे परमानंद माधवम्।।

भावार्थ:

श्री कृष्ण की कृपा से जो गूंगे होते है वो भी बोलने लगते हैं, जो लंगड़े होते है वो पहाड़ों को भी पार कर लेते हैं। उन परम आनंद स्वरूप माधव की मैं वंदना करती हूं।

Translation in English:

Mukam karoti vaacaalam pangum langayate girim,
Yatkrupa tamham vande paramanand madhavam.

Meaning of Shloka:

By whose grace, dumbs start speak, lame men climb mountains, I worship that Shri Krishna (Madhav), the supreme bliss.

4 comments

Leave a Reply