#प्रेम #स्वतंत्रता

“स्वतंत्रता मनुष्य की परम इच्छा है, स्वतंत्रता में ही मनुष्य खिल सकता है, ध्यान करने से स्वतंत्रता पाएंगे। स्वतंत्रता को तुम्हारा केन्द्र और प्रेम को

1 2 3 33