प्यारी गुड़िया

I want to dedicate this poem to my daughter. She was born on the second day of Navratri on 27th September last month.

We feel so blessed for the arrival of a baby girl in our life. Her name is Dhyani.

मेरे घर एक प्यारी गुड़िया आयी,
संग अपने बहोत सारी खुशियां लायी।

मेरी प्यारी गुड़िया ने,
मातृत्व की अनुभूति से,
मुझे छलका दिया है।

मेरी प्यारी गुड़िया ने,
पापा की लाड़ली बनके,
घर का माहौल ही बदल दिया है।

ममता रस के धागे से बांध दिया है मुझको,
प्रेम रस के धागे से बांध दिया है सबको।

नानी-नाना, दादी-दादा की
प्यारी गुड़िया बनकर
घर में रौनक फ़ैला दी है।

चाचा-चाची, बुआ-फूफा की
प्यारी गुड़िया बनकर
घर में रौनक फ़ैला दी है।

मामा-मामी, मौसी-मौसा की
प्यारी गुड़िया बनकर
घर में रौनक फ़ैला दी है।

मेरे घर एक प्यारी गुड़िया आयी,
संग अपने बहोत सारी खुशियां लायी।

6 thoughts on “प्यारी गुड़िया

Add yours

  1. ♥️♥️♥️♥️♥️♥️😘😘😘😘🥰🥰🥰🥰🥰. Awesome poem and I could feel your motherly love which is the purest form of love. Lots of love, dear. ♥️♥️♥️

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Website Powered by WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: