जश्न का गीत

#ग़ज़ल ज़िंदगी में जश्न का गीत गुनगुनाना है,ग़मों की दास्तान सुनाना मन को भाता नहीं है। जब खुद के ही सुर पा ले यह मन,तब दूसरों से मिले ग़म की परवाह नहीं रहती है। जब खुद की ही लय में झूम उठे यह दिल,तब किसी से कोई फ़रियाद नहीं रहती है। जब खुद की ताल... Continue Reading →

ગુરુ પૂર્ણિમા નિમિત્તે વિશેષ ગઝલ (गुरु पूर्णिमा के अवसर पर विशेष ग़ज़ल)

ગુરુ અને શ્રદ્ધા નો મહિમા દર્શાવતી ગઝલ: આધ્યાત્મિક ગઝલ જ્યારથી શ્રદ્ધાની કૂંપળ ફુટી અંતરમાં જાણે!ત્યારથી જિંદગીની ડાળી પર કળી ખીલી ઉઠી જાણે! જ્યારથી આધ્યાત્મિક પ્રગતિનો સૂર્યોદય થયો,ત્યારથી શંકા- ગૂંચવણના વાદળ હટી ગયા જાણે! જ્યારથી ગુરુનું શરણ પામી લીધું,ત્યારથી ચિંતા આપમેળે જ છુટી ગઈ જાણે! દ્રઢ વિશ્વાસ જો ખુદ પર હોય,દરેક કાર્ય સરળ થઈ જાય જાણે!... Continue Reading →

सुहाना सफ़र

चलते चलते कितना सुहाना सफ़र हो गया,हर मेरी जरूरतों को तुमने बिना कहे पूरा किया। मेरे हर कार्य को तुमने आसान किया,मेरे हर जज़्बात को तुमने समझा। हर मुश्किल का एक साथ मिलकर सामना किया,हर धूप छांव में एक-दुसरे का साथ निभाया। मुश्किल हालातों में एक-दुसरे का हौसला बढ़ाया,मुश्किल हालातों को हंसते- हंसते निभाया। पति-पत्नी... Continue Reading →

त्रिदेवी की आराधना का पर्व

नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएं। नवरात्री का पर्व आया है,नवदुर्गा शक्ति का पर्व आया है। भक्ति के रंग में डुबना है,आध्यात्मिक विकास करना है। त्रिदेवी की आराधना में खुद को खो देना है,त्रिदेवी की आराधना से खुद को संवारना है। खुद के दु:खों से उपर उठना है,खुद में प्रसन्नता को ढूंढना है। काली स्वरूप तमस का प्रतीक... Continue Reading →

ख़ूबसूरत तराना बन गया #podcast

तुम सुर बनकर आए,तो मेरे जीवन का ख़ूबसूरत तराना बन गया। तुम राग बनकर आए,तो मेरे जीवन का ख़ूबसूरत साज़ बन गया। तुम गीत हो, मैं तुम्हारे शब्द हूँकुछ एसा ही प्यारा रिश्ता है हमारा। हमारे रिश्ते से जीवन का नया अर्थ मिला,जीवन की धुन को नया संगीत मिला।

🔸️🔹️होली🔸️🔹️

अलग-अलग रंग सुंदरता को दर्शाते है,चलिए! इस होली में रंगों से जीवन को सुंदर बनाए। मन से मानसिक दुर्बलता दूर करे,कपट, घृणा व शत्रुता दूर करे;मन को सबल बनाए। अपनो से हुए गिले-शिकवे से उपर उठकर,मन को सुंदर रंगों से सजाएं;निस्वार्थ और निष्कपट के रंग से सजाएं। आप सब को होली की ढेर सारी शुभकामनाएं।

ममता के कई रूप #Happy Women’s Day

Happy Women’s Day to all of you!

Harina's Blog

स्त्री का हर रूप, ममता की मूरत है,
बेटी हो या बहन, पत्नी हो या माँ हो,
हर रूप ममता से छलकता है।

एक बेटी अपने पिता की
हर छोटी-छोटी बात का ख्याल रखती है,
ये ममता का ही रूप है।

एक लड़की अपने भाई पर,
बेशुमार प्यार लुटाती है,
ये ममता का ही रूप है।

एक स्त्री अपने परिवार की
पूरे दिल से देखभाल करती है,
ये ममता का ही रूप है।

एक स्त्री अपने रिश्तेदारों की,
कमीयों को दुनिया से छिपा लेती है,
ये ममता का ही रूप है।

माँ बनने के बाद ही,वो ममता लुटाती नहीं,
माँ बनने के पहले से ही, वो ममता लुटाती है,
उस के रोम-रोम में ममता छिपी है।

स्त्री का हर रुप, ममता की मूरत है,
बेटी हो या बहन, पत्नी हो या माँ हो,
हर रूप ममता से छलकता है।

View original post

Website Powered by WordPress.com.

Up ↑