हाइकु काव्य रचना (5)

प्रेम में ही है,
छिपी जीवन डोर,
न तोड उसे।

3 thoughts on “हाइकु काव्य रचना (5)

Add yours

Leave a Reply

Up ↑

%d bloggers like this: