हाइकु काव्य रचना (7)

दर्द में हो तो
खुशी का अभिनय,
क्यों करते हो?

आंखों से दर्द
छिप नहीं सकता,
बयां कर दो।

2 comments

Leave a Reply