उलझनें – जीवन का हिस्सा

चलते रहिए, चलते रहिए
सारी उलझनों के साथ,
चलते रहिए।

करते रहिए, करते रहिए
अपने कार्य (कर्तव्य) करते रहिए।
चलते रहिए।

उलझनें तो जीवन का हिस्सा है,
उलझनों के साथ चलना,
सीखते रहिए।

उलझनें तो जीवन में अवसर है,
हमारी प्रगति का अवसर,
चलते रहिए।

रुकिए मत, रुकिए मत
गर उलझनों का सैलाब भी आ जाए,
चलते रहिए।

चलते चलते, धीरे धीरे
सारी उलझन, सुलझन में बदल जाएगी।
चलते रहिए।

8 comments

  1. “उलझनें तो जीवन का हिस्सा है,
    उलझनों के साथ चलना,
    सीखते रहिए।

    …चलते चलते, धीरे धीरे
    सारी उलझन, सुलझन में बदल जाएगी।
    चलते रहिए।”

    —–🌟🌟🌟🌟🌟—–

    Khayalo me khayal aatey…
    Par aapke yeh khayal toh
    Bemisaal-khayal hai…

    👍 Brilliant work

    Liked by 1 person

  2. बिल्कुल सही कहा। लाजवाब।👌👌
    उलझनें तो जीवन का हिस्सा है,
    उलझनों के साथ चलना,
    सीखते रहिए।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s