शब्द अलग, पर अर्थ समान

अल्लाह की इबादत होती है,
भगवान की प्रार्थना होती है।

शब्द अलग-अलग है,
पर अर्थ समान है।

तो शब्दो की भिन्नता,
शब्दो तक ही सीमित ना रहकर,
क्यों भावनाओ तक पहुंच गई है?

7 comments

  1. बहुत ही सही लिखा है आपने | एक कड़वा सच है यह | 
    शब्दों की भिन्नता यूँही नहीं पहुँची भावनाओं तक, पहुंचाई गयी है राजनीति और धर्म के ठेकेदारों द्वारा |  हम आम लोग बिना सोचे समझें उनका अनुसरण करे रहते हैं | 
    समय मिले तो इस लिंक पर जाएँ, ऐसा ही कुछ लिखने का मेरा प्रयास था | 
    https://rkkblog1951.wordpress.com/2018/09/12/geeta-n-quran/  

    Liked by 1 person

    1. Hello, I checked the link, but I cannot open it..even I tried to search this blog on your home page..but sorry couldn’t find it..
      Can you please send me again the link? I would love to read it..

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s