कौन घबराता मुसीबतों से?

कौन घबराता मुसीबतों से?
जिसको मेहनत नहीं करनी,
मुसीबत को दूर नहीं करनी।

दूसरों के भरोसे बैठे रहना है,
खुद कुछ भी नहीं करना है।

कौन घबराता मुसीबतों से?
जिसको खुद पर भरोसा नहीं,
कभी खुद में झांका ही नहीं।

जो लोग दूसरों पर आश्रित रहते हैं,
वो लोग हर मुसीबत से घबरा जाते हैं।

खुद में विश्वास रखकर,
खुद धैर्य से प्रयास कर।

हर मुसीबत दूर हो जाएगी,
जब तू खुद से जुड़ जाएगा।

फिर तुझे मुसीबतें घबरा नहीं पाएगी,
फिर तुझे मुसीबतें घबरा नहीं पाएगी।

Leave a Reply