हम नासमझ है

ज़िंदगी ने हमें, सब कुछ दिया,
बेहतर ज़िंदगी के लिए, सब कुछ दिया।

पेड़-पौधें, ज़मीन, पानी, हवा
प्रकृति देकर एहसान किया।

पर हम नासमझ है,
प्रकृति को प्रदूषित कर दिया।

लालच बढ़ाते गये,
और प्रकृति को बिगाड़ते गये।

प्रकृति को बिगाड़ते बिगाड़ते,
जब ज़िंदगी बदतर होने लगी

तब जाकर प्रकृति की
क़ीमत होने लगी।

क़ीमत भी तब हुई,
जब ज़िंदगी के लिए
जूझ रहे हैं सब!

5 comments

  1.  हम नासमझ है,

    Baat ekdum sahi hai…par baat der se samajhte hai log.

    Aapne achha kiya, logo ko btaya..umeed hai log aapki baat ko samajh ke

    Shaan se kahengey
    Haa,  हम नासमझ है,👍

    🌟🌟🌟🌟🌟

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s