ज़िंदगी के लम्हे

ज़िंदगी का हर लम्हा
उलझनों में ही,
क्यों बिताते हो?

ज़िंदगी के कुछ लम्हे,
ज़िंदगी का आनंद लेने में भी बिताए।

ज़िंदगी का हर लम्हा
डर में ही,
क्यों बिताते हो?

ज़िंदगी के कुछ लम्हे,
ज़रा खुल कर भी बिताए।

ज़िंदगी का हर लम्हा
रोने में ही,
क्यों बिताते हो?

ज़िंदगी के कुछ लम्हे,
हंसने के मौके ढूंढने में भी बिताए।

9 comments

  1. ज़िंदगी के कुछ लम्हे,
    हंसने के मौके ढूंढने में भी बिताए।

    Zindagi ko dekhne ka bahot he achha najariya hai aapka…
    Aapki simple words me zindagi ki philosophy ko present kiya h..

    Har kisi ko padhna chaiey…

    Good work done⭐⭐⭐

    Liked by 2 people

      1. हरिणा जी, समय मिले तो मेरा ब्लॉग भी आवश्य चेक कीजियेगा। अपने सह-कवियों से सुझाव अवं टिप्पणियां पाकर अपने लेखन में सुधार का प्रयास कर रहा हूँ।🙏

        Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s