आदत डाल ली है

जब से तूफ़ानों मेंजीने की आदत डाल ली है,तब से तूफ़ान बेअसर है, मुझ पर।अब तो तूफ़ान और मामूली हवा का झोंकाएक समान है, मेरे

मन

जिसने अपने मन को जीत लिया है, उसे कोई भी हरा नहीं सकता। इसलिए तो कहा जाता है कि “जिसने मन जीता, उसने जग जीता”।

1 11 12 13 14 15 33