अश्क

आंखों के अश्क,कीमती होते हैं।तुम्हारी कद्र न करने वालों पर,इन्हें ज़ाया मत करो।

1 2 3 4