हाइकु काव्य रचना (8)

दिल की खुशी मुस्कान बनकर, छलकती है।

Website Powered by WordPress.com.

Up ↑