आदत डाल ली है

जब से तूफ़ानों मेंजीने की आदत डाल ली है,तब से तूफ़ान बेअसर है, मुझ पर।अब तो तूफ़ान और मामूली हवा का झोंकाएक समान है, मेरे

मन

जिसने अपने मन को जीत लिया है, उसे कोई भी हरा नहीं सकता। इसलिए तो कहा जाता है कि “जिसने मन जीता, उसने जग जीता”।

ज़िंदगी के लम्हे

ज़िंदगी का हर लम्हाउलझनों में ही,क्यों बिताते हो? ज़िंदगी के कुछ लम्हे,ज़िंदगी का आनंद लेने में भी बिताए। ज़िंदगी का हर लम्हाडर में ही,क्यों बिताते

#Quote

The Sanskrit text सत्यं बृयात् प्रिय बृयात्। न बृयात् सत्यमप्रियम् (Satyam bruyat priyam bruyat, Na bruyat satyamapriyam) Means that one should speak the truth in

1 5 6 7 8 9 17