वाणी पर संयम #लघुकाव्य-5

कड़वे बोल न चुने,मीठे बोल चुने।मिठास को बढ़ाए,रिश्तों को निभाए।मन में कड़वाहट न रखें,मन में बड़प्पन रखें।जीवन निखर जाएगा,रिश्ता संवर जाएगा,वाणी पर संयम से। My Book Now Available on Amazon Kindle अन्य ब्लॉग:बारिश की बूंदें શબ્દોની કમાલ / शब्दों की कमाल કવિતા નું સૌંદર્ય/ कविता का सौंदर्य लघुकाव्य-1 રાખ થઈ જાય સંબંધો / राख हो जाए... Continue Reading →

Website Powered by WordPress.com.

Up ↑