संस्कृत गीत (जीवन का गीत)

संस्कृत गीत का हिंदी में भाषांतर भी दिया हुआ है। गीत के रचनाकार स्व. पद्मश्री डॉ. श्रीधर भास्कर वर्णेकर जी है। गीत: मनसा सततं स्मरणीयम्वचसा सततं वदनीयम्लोकहितं मम करणीयम् ॥ लोकहितं॥ न भोगभवने रमणीयम्न च सुखशयने शयनीयनम्अहर्निशं जागरणीयम्लोकहितं मम करणीयम् ॥ मनसा॥ न जातु दु:खं गणनीयम्न च निजसौख्यं मननीयम्कार्यक्षेत्रे त्वरणीयम्लोकहितं मम करणीयम् ॥ मनसा॥ दु:खसागरे... Continue Reading →

तुम मेरा आयना हो

''YE AINAA HE'' song from Kabir Singh movie inspired me to write a beautiful poem and sing a song. Hope you like it! My expression in the form of poetry. तुम मेरा आयना हो। तुम से ही मैंनेखुद को देखा। तुम से ही मैंनेमेरी खूबसूरती देखी। तुम से ही मैंनेमेरी हर अदा देखी। तुम से... Continue Reading →

संस्कृत गीत (जीवन का गीत)

संस्कृत गीत का हिंदी में भाषांतर भी दिया हुआ है। गीत के रचनाकार स्व. पद्मश्री डॉ. श्रीधर भास्कर वर्णेकर जी है। गीत: मनसा सततं स्मरणीयम्वचसा सततं वदनीयम्लोकहितं मम करणीयम् ॥ लोकहितं॥ न भोगभवने रमणीयम्न च सुखशयने शयनीयनम्अहर्निशं जागरणीयम्लोकहितं मम करणीयम् ॥ मनसा॥ न जातु दु:खं गणनीयम्न च निजसौख्यं मननीयम्कार्यक्षेत्रे त्वरणीयम्लोकहितं मम करणीयम् ॥ मनसा॥ दु:खसागरे... Continue Reading →

जिया लागे ना (Singer and Lyricist- Harina)

बिन तेरे जिया लागे ना, तुझको ही बस देखा करू, तू ही मेरे आगे, तू ही मेरे पीछे, तू ही तू, हर जगह...। तेरे बिना कुछ भाये ना, तेरे ही गुण गाती रहूं, तेरा जादु ही कुछ एसा है, मदहोश होती रहूं। सजादु तेरा हर सपना, पूरा कर दू, तेरा हर अरमां, कर दू रौशन,... Continue Reading →

तू जो मिल गया (Singer and Lyricist – Harina Pandya )

मुझे तू जो मिल गया, ये जहां है बदल गया, गुनगुना उठी तन्हाईयां... मुस्कुरा उठी अंगड़ाइयां... हा....अब देख लो, मैं हूँ नयी, हा.... अब जान लो, मैं हूँ नयी। मेहक मेहक मेहकी, मेहकी हूँ फूल जैसे, मेहकी मेरी आरज़ू, मेहकी मेरी ज़ुस्तज़ू , मेहकी है ये खुशीयां, मेहकी है वादीयां, मेहकी है ये ज़िंदगी, मिली... Continue Reading →

Website Powered by WordPress.com.

Up ↑