मशरूफ़ थे

मशरूफ़ थे वो,
हम को तड़पाने के लिए।

मशरूफ़ थे वो,
चाल चलने के लिए।

मशरूफ़ थे हम,
उनकी चाल को जानने में।

मशरूफ़ थे हम,
उनके बद इरादों को तोड़ने में।

कामयाब तो वो हुए नहीं,
क्योंकि उनके पाक इरादें जो ना थे।

कामयाब तो हुए हम,
क्योंकि हमारे बद इरादें जो ना थे।

7 comments

  1. मशरूफ़ थे वो,
    चाल चलने के लिए।

    मशरूफ़ थे हम,
    उनकी चाल को जानने में।

    🌟🌟🌟🌟🌟

    Chasm-e-bad’door

    Apne toh imagination ki height aur depth, dono he cover kar liye.

    Brilliant work.

    Keep doing the same
    🌼🌼🌼💥💥💥💥💥

    Liked by 2 people

Leave a Reply to Ajay kumar Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s