खुबसूरत रिश्ता (Poem in Hindi Language)

वो रिश्ता ही कुछ ऐसा है,
जिसमें लेनेसे ज्यादा,
देने में मज़ा मिलता है.
वो एक रिश्ता पति-पत्नीका है!

जिसमें प्यार की कली खिली हो,
जिसमें प्यार की मेहक उठी हो.
बस प्यार ही प्यार बेशुमार हो.
वो एक रिश्ता पति-पत्नीका है!

जैसे बाती बिना दिया अधूरा,
वैसे पत्नी बिना पति अधूरा!
जैसे चांदनी बिना रात अधूरी,
वैसे पति बिना पत्नी अधूरी!

एक गाड़ीके दो पैये जैसे ये,
चल सके न कोई एक के बिन.
चले जब दोनों साथ,
रोक सके न कोई!

वो रिश्ता ही कुछ ऐसा है,
जो दुनियाको चलाता है.
जिसमे एक का अस्तित्व,
दूसरेके होने से ही है!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s